अमर भारती: विश्व कप में ग्रुप जी के मैच में रविवार को इंग्लैंड ने पनामा को 6-1 से हरा दिया। इस जीत के साथ ही इंग्लैंड प्री-क्वार्टर फाइनल में पहुंच गया। वोल्गोग्राद अरीना फुटबॉल मैदान में खेले गए इस मैच में इंग्लैंड के हैरी केन ने पहले 11 मिनट में ही ट्यूनीशिया पर गोल दाग़ कर बढ़त हासिल कर ली। गोल बचाने की गोलकीपर की कोशिश नाकाम रही और ऐसा लगने लगा कि ये निर्णायक गोल सिद्ध होने वाला है। इस टूर्नामेंट में ये हैरी केन का पहला गोल था। कप्तान के तौर पर खेले गए हर मैच में अब तक उन्होंने कम से कम एक गोल अवश्य किया है। लेकिन मैच के 35वें मिनट में खेल पूरी तरह पलट गया.ट्यूनीशिया की तरफ से अल-नसीर क्लब के लिए खेलने वाले फरजानी सैसी ने पेनल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील कर दिया।

इसके बाद बराबरी पर चल रही इंग्लैंड की टीम के खिलाड़ियों की लगातार कोशिश रही कि वो गेंद को आगे ले कर जाएं और गोल करें लेकिन ट्यूनीशिया ने इसका मौक़ा दिया ही नहीं, फिर खेल के नब्बेवें मिनट पर इंग्लैंड के हैरी केन ने एक और गोल किया, इस गोल से एक-एक की बराबरी पर चल रही ट्यूनीशिया की टीम से इंग्लैंड एक कदम आगे हो गई, अब उन्हें मैच में ख़त्म होने तक ट्यूनीशिया को गोल करने से रोकना था जो उनके लिए आसान साबित हुआ, इंग्लैंड ने साल 1966 का फ़ीफ़ा विश्व कप अपने नाम किया था. इस दौरान टीम ने अपने सभी मैच लंदन के वेम्बले स्टेडियम में खेले थे। ट्यूनीशिया अब तक कोई भी विश्व कप नहीं जीता है।

ट्यूनीशिया इससे पहले 1998 में विश्वकप के एक मैच में इंग्लैंड के ख़िलाफ खेला था जिसमें उसे दो-शून्य से हार मिली थी। ग्रुप जी में अब ट्यूनीशिया का मुक़ाबला 23 जून को बेल्जियम से और 28 जून को पनामा से होगा। वहीं इंग्लैंड 24 जून को पनामा और28 जून को बेल्जियम से मुक़ाबला करने मैदान में उतरेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here