अमर भारती : सीजफायर खत्म करने के विरोध में चल रही प्रेस कांफ्रेस में महबूबा मुफ्ती ने कहा कि सीजफायर से लोगों को काफी सुकून मिला था, वो चैन की सांस ले पा रहे थे, बिना किसी डर के बाहर जा रहे थे, लेकिन ये फैसला वापस ले लिया गया। प्रेस-वार्ता में उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर में सख्ती की पाॅलिसी काम नहीं कर सकती। यह मसला पाकिस्तान के साथ बातचीत के जरिए ही सुलझाया जा सकता है जो कि पीडीपी का एजेंडा था।

जम्मू-कश्मीर में हमारे अपने लोग हैं हम इस तरह के फैसले नहीं ले सकते जिससे उन्हें नुकसान पहुंचे। ये हमारे दुश्मनों की टेरिटरी नहीं है। मैने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है, क्योंकि उनका मानना है कि जनता से भी बात होनी चाहिए, पाकिस्तान से भी बात होनी चाहिए। ज्यादा से ज्यादा रास्ते खुलने चाहिए। ये ही कश्मीर और यहां के लोगों के लिए सही है।