दुश्मनों को फंसाने के लिए इस महिला ने उठाया ऐसा गंदा कदम, खुद ही फंस गई जाल में

बहराइच, यूपी। यूपी के बहराइच में स्थित नवागत थाना क्षेत्र में पुलिस ने एक ऐसी जालसाज महिला को गिरफ्तार कर किया है। जिसने अपने गांव के रहने वाले 4 लोगों से दुश्मनी का बदला लेने के लिए उनपर गैंगरेप का आरोप लगाकर उन्हें जेल भेजने का पूरा पुख्ता इंतजाम कर चुकी थी। यही नहीं, महिला ने मेडिकल जांच में सामूहिक दुष्कर्म की पुष्टि के लिए उसने अपने सहयोगियों के साथ शारीरिक संबंध भी बनाया और फिर सामूहिक दुष्कर्म का घिनौना आरोप अपने दुश्मनों पर मढ़ दिया। वहीं, इस मामले की जब सोनवा पुलिस टीम द्वारा कड़ाई से जांच की गई तो पूरी घटना का माजरा मनगढ़ंत कहानी के साथ ही पूरी तरह से फर्जी निकला।

दुश्मनों पर लगाया था गैंगरेप का फर्जी आरोप

जिले के थाना रिसिया क्षेत्र के बेलभरिया डिहवा निवासी एक विवाहिता महिला ने आरोप लगाया था कि गांव के 4 दबंगो ने उसे बंधक बनाकर उसके साथ बारी-बारी से सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने का काम किया हैं। महिला की शिकायत को संज्ञान में लेकर सोनवा थाने की पुलिस टीम ने मुकदमा दर्ज कर पूरी घटना की जानकारी पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार को दी। गांव की एक विवाहिता महिला के साथ गैंगरेप की घटना की जानकारी होते ही महिला अपराध के मामले पर अपनी संजीदगी दिखाते हुए पुलिस अधीक्षक श्रावस्ती अशोक कुमार ने घटना स्थल का दौरा किया। इसके बाद पुलिस अधिकारी व सर्विलांस टीम को मामले की तहकीकात के लिए लगाया। इस संगीन प्रकरण में जब पुलिस टीम ने कड़ी छानबीन शुरू किया तो उन्हें इस मामले में एक मनगढ़ंत कहानी देखने को मिली।


ये था पूरा मामला
पुलिस पुछताछ में उसने बताया कि वह अपने प्रेमी के गांव के पूर्व ग्राम प्रधान मन्नान के साथ मिलकर पुरानी रंजिश का बदला लेने के लिए पूरी घटना का स्वांग रचा था। अपने दुश्मनों को जेल भेजने के लिये उनपर फर्जी गैंगरेप का आरोप लगाकर उन्हें जेल भेजना चाहती थी। सबसे बड़ी चौकाने वाली बात ये है कि शातिर महिला ने दुष्कर्म की घटना का आरोप सिद्ध करने के लिए उसने अपने साथी पूर्व ग्राम प्रधान के साथ हम बिस्तर होकर पहले शारीरिक संबंध बनाया और सारा आरोप विपक्षियों के ऊपर मढ़ दिया। महिला ने अपना जुल्म स्वीकार करते हुए बताया कि फर्जी गैंगरेप की कहानी बनाकर उसने अपने दुश्मनों को फंसाने के लिये थाना सोनवा में फर्जी गैंगरेप का मुकदम दर्ज कराया था। वहीं, पुलिस अधीक्षक ने बताया कि अभियोग झूठा पाए जाने पर उसे खारिज करते हुए, फर्जी शिकायतकर्ता के ऊपर सख्त से सख्त कार्यवाही की जा रही है।