कर्नाटक में येदियुरप्‍पा के सीएम बनने के बाद छिड़ा सियासी घमासान, यूपी कांग्रेस ने अमित शाह का फूंका पुतला

लखनऊ। कर्नाटक में राज्यपाल द्वारा भाजपा सरकार को शपथ ग्रहण कराये जाने के विरोध में यूपीसीसी में कांग्रेस जनों द्वारा भाजपा एवं अमित शाह का पुतला फूंककर विरोध प्रदर्शन किया गया। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता अमरनाथ अग्रवाल ने कहा कि कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के गठबन्धन को पूर्ण बहुमत होने एवं भाजपा की कम सीट होने के बावजूद राज्यपाल द्वारा भाजपा को सरकार बनाने एवं शपथ ग्रहण कराये जाने का निर्णय अलोकतांत्रिक और गैर कानूनी है। कर्नाटक में कांग्रेस पार्टी को 38 प्रतिशत मत एवं भाजपा को 36 प्रतिशत मत मिला है।

लेकिन जिस प्रकार ऐन-केन-प्रकारेण सरकार बनाने और खरीद-फरोख्त को खुलेआम अंजाम दिया गया, जिसे पूरा देश देख रहा है, शर्मनाक है। इसके पूर्व गोवा, मणिपुर एवं मेघालय में कांग्रेस पार्टी के सिंगल लार्जेस्ट पार्टी होने के बावजूद भाजपा के गठबन्धन को सरकार बनाने के लिए वहां के राज्यपालों द्वारा आमंत्रित किया गया। ठीक इसके विपरीत कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस गठबन्धन की पूर्ण बहुमत का संख्याबल होने के बावजूद भाजपा को सरकार बनाने एवं शपथ ग्रहण कराने का निर्णय लेकर भारतीय जनता पार्टी एवं वहां के राज्यपाल ने असंवैधानिक कृत्य किया है।

भारतीय जनता पार्टी का लोकतंत्र से विश्वास खत्म हो चुका है, संवैधानिक संस्थाओं का विपक्षियों के विरूद्ध अनैतिक इस्तेमाल करने में लगी हुई है। लेाकतंत्र का गला घोंटकर संविधान की धज्जियां उड़ायी जा रही हैं। प्रवक्ता ने बताया कि पुतला दहन एवं विरोध प्रदर्शन में प्रमुख रूप से पूर्व मंत्री रामकृष्ण द्विवेदी, एमएलसी दीपक सिंह, पूर्व मंत्री राजबहादुर, पूर्व विधायक अखिलेश प्रताप सिंह, पूर्व विधायक सतीश अजमानी, डॉ आरपी त्रिपाठी, अनुसुइया शर्मा, अरूण प्रकाश सिंह, अनीस अंसारी पूर्व आईएएस,जीशान हैदर, केके पाण्डेय, शैलेन्द्र तिवारी, सुशीला शर्मा, सिद्धिश्री, अंजुम खान सहित सैंकड़ों की संख्या में कांग्रेसी शामिल रहे।

अखिलेश ने बताया लोकतंत्र की हत्या 

कर्नाटक में बीजेपी विधायक दल के नेता येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही कर्नाटक की सियासी लड़ाई में अब सपा मुखिया अखिलेश यादव भी कूद पड़े। अखिलेश ने पांच पंक्तियों का ट्वीट किया। ट्वीट में बीजेपी पर तंज करते हुए लिखा कि “आज फिर लोकतंत्र की शपथ ली जाएगी। आज फिर एक बार और हत्या की जाएगी। आज फिर सत्ता की हनक दिखाई जाएगी। आज फिर ज़मीर की मंडी सजाई जायेगी। आज फिर आज़ादी थोड़ी और मर जायेगी।”  गौरतलब है कि कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के गठबंधन को बहुमत होने के बावजूद गवर्नर ने भाजपा के येदियुरप्‍पा को सरकार बनाने का न्योता दिया, जिसके खिलाफ अब पूरा विपक्ष लामबंद होकर अपने- अपने तरीके से विरोध कर रहा है।

लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या की गई: मायावती

कनार्टक में भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा के सीएम पद पर शपथ लेते के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने बीजेपी पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि ये सब बाबा साहेब आंबेडकर द्वारा बनाए गए संविधान को खत्म करने की साजिश हो रही है। उन्होंने कहा कि बीजेपी जब से सत्ता में आई है तब से सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर रही है। मायावती ने कहा कि देश की आजादी की बाद से ज्यादा ये देखने के लिए मिल रहा है कि केंद्र में जिस भी पार्टी की सरकार होती है तो फिर उनके द्वारा राज्यों में नियुक्त किए गए राज्यपाल अधिकांश उन्हीं के हिसाब से अपने फैसले लेते हैं। जो ये सब राज्यपाल की गरिमा को खत्म करने के साथ-साथ अपने देश के लोकतंत्र के लिए भी ठीक नहीं है।

बीजेपी-आरएसएस बाबा साहेब आंबेडकर द्वारा बनाए गए संविधान को कमजोर करने और इसे खत्म करने की एक बहुत बड़ी साजिश रची जा रही। जब से केंद्र में बीजेपी की सरकार आई है। तब से हर स्तर पर अपनी सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग करके यहां लोकतांत्रिक मूल्यों की काफी हद तक हत्या कर दी है।