मोदी कैबिनेट ने लगाई मुहर, 12 साल से कम उम्र की बच्चियों से रेप पर मिलेगी मौत की सजा

नई दिल्ली। मोदी कैबिनेट ने रेप के मामले में मौत की सजा पर मुहर लगा दिया है। केंद्रीय कैबिनेट ने मौत की सजा पर मुहर लगाते हुए 12 साल के कम उम्र की बच्चियों से रेप की अधिक्तम सजा मौत कर दी है। केंद्रीय कैबिनेट ने शनिवार को 12 साल से कम उम्र की बच्चियों से रेप के दोषियों को मौत की सजा देने को मंजूरी दे दी। इसको लेकर सरकार जल्द की अध्यादेश जारी कर सकती है। इसके साथ-साथ सरकार ने इस मामले में सुनवाई और जांच की समय सीमा भी तय कर दी है। इस बिल को कैबिनेट की मंजूरी मिलने के बाद इसे अब राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा।

तीन देशों की यात्रा के बाद मोदी सरकार की ये पहली कैबिनेट मीटिंग थी। इस मीटिंग के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कैबिनेट की अध्यक्षता करते हुए पॉस्को एक्ट में संशोधन को मंजूरी प्रदान कर दी है। देश में बच्चियों के साथ बढ़ रही ब्लात्कार की घटनाओं के मद्देनजर सरकार ने इस पर तेजी से फैसला लिया है। बता दें कि हाल के दिनों में रेप की बढ़ती घटनाओं को लेकर देश में गुस्सा है।

सरकार ने एक्ट में संशोधन करते हुए 16 साल से कम उम्र की बच्चियों के साथ रेप करने के मामले में न्यूनतम सजा को 10 से बढ़ाकर 20 साल कर दिया है। अध्यादेश में यह भी प्रावधान किया गया है कि 12 साल से कम उम्र की लड़की से रेप के दोषी को न्यूनतम 20 साल की जेल या उम्रकैद या मौत की सजा दी जाएगी।

सरकार IPC, CrPC व ऐविडेंस ऐक्ट में संशोधन के साथ ही पॉक्सो ऐक्ट में भी इस तरह से अपराधों के लिए अधिक्तम सजा का प्रावधान मौत की सजा करेगी। गौरतलब है कि हाल के दिनों में देश में रेप की बढ़ती घटनाओं को लेकर कठोर कानून की मांग की जा रही है। लोगों के बीच में इस बात को लेकर आक्रोश है कि सख्त कानून नहीं होने की वजह से देश में इस तरह की घटनाओं में बढ़ोतरी हो गई है। सरकार ने देश के इस मूड को भांपते हुए रेप से संबंधित कानून में संशोधन का मन बना लिया है और अब सरकार रेप के मामले में मौत की सजा का प्रावधान करने जा रही है।