CJI के खिलाफ फिर से महाभियोग की तैयारी, विपक्ष की बैठक में लिया जाएगा फैसला

नई दिल्ली। भारत के मुख्य न्यायाधीश के खिलाफ विपक्ष फिर से एकजुट हो रहा है। विपक्षी दलों की बैठक में इस पर फैसला लिया जाएगा कि सीजीआई के खिलाफ महाभियोग का प्रस्ताव लाया जाय या नहीं। विपक्ष एक बार फिर से सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ लामबंद हो रही है।

महाभियोग लाने का प्रस्ताव कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद की अगुवाई में कई विपक्षी पार्टियों के नेता मिलकर इसपर विचार करेंगे। बता दें कि जज लोया केस मामले में सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई थी। गुरूवार को सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई करते हुए इसे खारिज कर दिया। SC ने कहा कि इस तरह की याचिकाएं कोर्ट का समय बर्बाद करती हैं।

फैसला देने वालों में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा भी शामिल थे। कोर्ट के निर्णय के बाद कांग्रेस में नाराजगी है। इस फैसले पर कांग्रेस पार्टी ने कहा कि यह इतिहास का सबसे दुर्भाग्यपूर्ण दिन है। इस फैसले के बाद भी जस्टिस लोया की मौत से जुड़े बहुत सारे सवालों का जवाब नहीं मिला।

इसी फैसले के बाद नाराज कांग्रेस ने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग लाने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है। हालांकि विपक्षी पार्टियों का यह कोई नया प्रस्ताव नहीं है। इससे पहले भी विपक्ष का प्रस्ताव आया था। बजट सत्र के दौरान कई पार्टी के विपक्षी नेताओं ने एकजुट होकर करीब 60 से अधिक सांसदों के दस्तखत भी जुटाए थे, लेकिन उसके बाद फिर से यह प्रस्ताव ठंडे बस्ते में चला गया था।