नई दिल्ली। दुनिया जिस तानाशाह से कभी खौफ खाती थी। उस तानाशाह का शव कब्र से गायब हो गया है। इराक में निर्दोष लोगों की हत्या के मामले में सद्दाम हुसैन को फांसी की सजा दी गई थी। शव का कोई भी अवशेष अब वहां पर नहीं बचा है। उनके कब्र पर अब टूटी-फूटी कंक्रीट के अलावा कुछ नहीं बचा है। पूर्व तानाशाह सद्दाम को उनके गांव अल-अवजा में दफनाया गया था।

करीब बीस साल तक इराक की सत्ता पर काबिज रहे हुसैन को 30 दिसंबर 2006 को फांसी की सजा दी गई थी। जिस वक्त उन्हें फांसी की सजा हुई थी उस समय पूरी दुनिया की मीडिया में अनकी फांसी की सजा की सुर्खियां बनी थी। ताजा मामले में बताया जा रहा है कि जहां पर उन्हें दफनाया गया था अब वहां पर उनका शव नहीं है। वहां पर सिर्फ कंक्रीट बचा है।

सद्दाम के शव को लेकर अब सवाल उठने लगे हैं। अगर उनका शव खोदकर निकाल लिया गया तो आखिरकार शव को कहां ले जाया गया है।

सद्दाम करीब 20 साल तक इराक की सत्ता पर काबिज रहे थे। उन्हें 30 दिसंबर 2006 को फांसी दी गई थी। फांसी के बाद अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति जॉर्ज डब्लू बुश ने सद्दाम हुसैन के शव को बगदाद रवाना किया और उनके शव को उनके ही गांव अल-अवजा में दफना दिया गया।

उन्हें दफनाए जाने के बाद वह स्थल एक तीर्थ के रूप में बदल गया था। स्थानीय स्कूली छात्रों के अलावा सद्दाम के समर्थक हर साल 28 अप्रैल को उनके जन्मदिन पर वहां इकट्ठा होते थे। हालांकि अब उस जगह पर जाने के लिए विशेष अनुमति की जरूरत होती है। सद्दाम के वंश से जुड़े शेख मनफ अली अल-निदा का कहना है कि सद्दाम की कब्र को खोदा गया और उन्हें जला दिया गया। हालांकि, वह यह भी कहते हैं कि उन्होंने ऐसा होते हुए नहीं देखा।

वहीं दूसरी तरफ सद्दाम की कब्र की सुरक्षा में लगे शिया अर्द्धसैनिक बलों का कहना है कि आतंकवादी संगठन ISIS द्वारा अपने लड़ाके यहां तैनात करने के बाद इराकी हवाई हमलों में कब्र बर्बाद हुई है। सुरक्षाबल के प्रमुख जाफर अल-घरावी ने दबाव देते हुए कहा, ‘सद्दाम का शव अभी भी यहीं है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here