नई दिल्ली। मक्का मस्जिद ब्लास्ट केस में असीमानंद समेत अन्य आरोपियों को कोर्ट ने बरी कर दिया है। बता दें कि 2007 में मक्का मस्जिद में विस्फोट हुआ था। इस विस्फोट मामले में कोर्ट ने असीमानंद समेत सभी अारोपियों को बरी कर दिया है। NIA कोर्ट में इन आरोपियों के खिलाफ कोई ठोस सबूत नहीं रख पाया।

आपको बता दें कि इस हमले में नौ लोगों की मौत हो गई थी। एनआईए मामलों की चतुर्थ अतिरिक्त मेट्रोपोलिटन सत्र सह विशेष अदालत ने सुनवाई पूरी कर ली थी और पिछले हफ्ते फैसले की सुनवाई 16 अप्रैल तक के लिए टाल दी गई थी। कोर्ट के फैसले के बाद कड़ी राजनीतिक प्रतिक्रियाएं सामने आ रही है। जांच एजेंसी एनआईए ने कहा है कि हम अदालत के फैसले की समीक्षा के बाद आगे की कार्रवाई करेंगे।

इस ब्लास्ट केस में अभिनव भारत के सदस्य असीमानंद, देवेंद्र गुप्ता, लोकेश शर्मा उर्फ अजय तिवारी, लक्ष्मण दास महाराज, मोहनलाल रतेश्वर और राजेंद्र चौधरी समेत 10 को एनआईए ने आरोपी बनाया था। इस केस के दो आरोपी रामचंद्र कालसांगरा और संदीप डांगे फरार है। जबकि इस केस के मुख्य आरोपी सुनील जोशी की 29 दिसंबर 2007 को अज्ञात लोगों ने मध्य प्रदेश के देवास में गोली मारकर हत्या कर दी थी।

ये थे केस में 10 आरोपी, जिनमें से एक की हत्या हो गई थी

1. स्वामी असीमानंद

2. देवेंदर गुप्ता

3. लोकेश शर्मा (अजय तिवारी)

4. लक्ष्मण दास महाराज

5. मोहनलाल रातेश्वर

6. राजेंदर चौधरी

7. भारत मोहनलाल रातेश्वर

8. रामचंद्र कलसांगरा (फरार)

9. संदीप डांगे (फरार)

10. सुनील जोशी (मृत)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here