सरकार किसानों के उत्थान के लिए सतत् प्रयत्नशील- सत्यदेव पचैरी

लखनऊ। प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सत्यदेव पचौरी ने कहा कि राज्य सरकार किसानों के उत्थान के लिए सतत् प्रयत्नशील है। उन्होंने कहा कि किसानों के हितपरक अनेक कार्यक्रम प्रारम्भ कराये गये हैं, ताकि वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना किया जा सके। सरकार ने खेती-किसानी में उपयोग होने वाले कृषि यंत्रों पर भारी छूट की व्यवस्था की है। मंत्री ने शुक्रवार को बुलंदशहर में प्रमुख डेयरी उत्पाद बनाने वाली कम्पीन आनंदा द्वारा किसान गोष्ठी एवं किसानों को प्रशिक्षण देने संबंधित आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे।

इस पहल का मुख्य उद्देश्य खेती-किसानी के लिए आवश्यक ‘विकल्प साइथ’ (हंसिया) उपकरण को किसानों तक पहुंचाना है। सत्यदेव पचौरी ने किसानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार किसानों की आय दोगुना करने के लिए कृत संकल्पित है। सरकार इस दिशा में हर संभव प्रयास भी कर रही है। उन्होंने अनन्दा संस्था की प्रसंशा करते हुए कहा कि इस कम्पनी ने डेयरी क्षेत्र में उद्यम स्थापित करने हेतु 101 करोड़ रुपये के एमओयू हस्ताक्षित किये हैं।

मंत्री ने कहा कि डेयरी परियोजना की स्थापना से दुग्ध उत्पादकों की आय में वृद्धि होगी और वृहद स्तर पर रोजगार का भी सृजन होगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के विकास के लिए जितनी भी कल्याणकारी योजनाएं संचालित की जा रही हैं, उनमें गरीबों एवं किसानों का हित सर्वोपरि रखा गया है। सभी योजनाएं प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से गरीबों के कल्याण को केन्द्रित करते हुए बनाई गई है।

मंत्री ने कहा कि किसी भी राष्ट्र के समग्र विकास के लिए किसान उसकी रीढ़ होते हैं। इसलिए किसानों को सशक्त बनाने और भविष्य की चुनौतियों का सामना आसानी से करने के लिए उन्हें तैयार किया जा रहा है। उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि आधुनिक कृषि उपकरण हंसिया से फसलों की कटाई में कम समय लगेगा और किसानों को काम करने में भी आसानी होगी। कार्यक्रम में आनंदा समूह के चेयरमैन राधेश्याम दीक्षित सहित भारी संख्या में किसान मौजूद थे।