जीवनशैली डेस्क। उत्तर प्रदेश के आयुष विभाग द्वारा स्वामी विवेकानंद योग अनुसंधान संस्थान बेंगलूरू के साथ प्रदेश के 18 मण्डल मुख्यालयों पर योग के माध्यम से कैन्सर एवं डाइबिटीज की रोकथाम व नियंत्रण का कार्यक्रम प्रारंभ करने का लक्ष्य रखा गया है। देश में मधुमेह यानि डाइबिटीज और कैंसर के मरीजों की बढ़ रही संख्या को देखते हुए आयुष चिकित्सा महाविद्यालयों एवं चिकित्सालयों में इनकी रोकथाम एवं उपचार के लिए योग और नेचुरोपैथी को शामिल करने के लिए एक कार्य योजना तैयार की जा रही है।

इसके लिए एक कमिटी का गठन भी किया जा चुका है। जिसमें आयुष विभाग के अधिकारियों के अतिरिक्त डॉ एसआर नागेंद्र, कुलाधिपति, प्रशान्तिकुटीरम, स्वामी विवेकानंद योग अनुसन्धान संस्थान विश्वविद्यालय बैंगलौर, प्रो सीएल क्षेत्रपाल, सेंटर ऑफ़ बायोमेडिकल, एसजीपीजीआई कैम्पस लखनऊ, प्रो रिपुसूदन सिंह सहित 6 सदस्यों को शामिल किया गया है।

इस कार्ययोजना के तहत आयुष से सम्बंधित शासकीय एवं निजी मेडिकल कॉलेजों तथा योगा वेलनेस सेंटर्स में डायबिटीज एवं कैंसर के रोगियों का दाबेस तैयार कराया जाएगा। वहीँ राष्ट्रीय आयुष मिशन आयुष मंत्रालय भारत सरकार द्वारा पोषित उप्र राज्य आयुष सोसाइटी की शासी निकाय की चतुर्थ बैठक मुख्य सचिव की अध्यक्षता में संपन्न हुई, जिसमें तीन वर्षों की वित्तीय प्रगति की समीक्षा की गयी।

सामने आई चीनी सैनिकों की ओछी करतूत, तिब्बतियों की हत्या के बाद नदी में बहा देते हैं लाश

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here