नई दिल्ली। भारत और फ्रांस के बीच 14 समझौतों पर हस्ताक्षर हुआ है। यह समझौता रेलवे, शहरी विकास, रक्षा, अंतरिक्ष आदि के क्षेत्रों में किया गया था। बता दें कि फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों चार दिन की यात्रा पर भारत आए हुए हैं। इस दौरान भारतीय पीएम मोदी ने कहा कि हम सिर्फ दो सशक्त स्वतंत्र देशों और दो विविधतापूर्ण लोकतंत्रों के ही नेता नहीं हैं, हम दो समृद्ध और समर्थ विरासतों के उत्तराधिकारी हैं।’

पीएम मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति ने संयुक्त रूप से प्रेस कांस्फ्रेंस में कहा कि हमारी (भारत-फ्रांस) रणनीतिक भागीदारी भले ही 20 साल पुरानी हो लेकिन हमारे देशों और हमारी सभ्यताओं की आध्यात्मिक साझेदारी सदियों लंबी है। उन्होंने कहा कि जमीन से आसमान तक कोई ऐसा विषय नहीं है जिसमें भारत और फ्रांस साथ मिलकर काम ना कर रहे हों। इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि ‘रक्षा, सुरक्षा, अंतरिक्ष और उच्च तकनीक में भारत और फ्रांस के द्विपक्षीय सहयोग का इतिहास बहुत लंबा है। सरकार किसी की भी हो, हमारे संबंधों का ग्राफ सिर्फ और सिर्फ ऊंचा ही जाता है।’

साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीएम मोदी ने कहा कि हम चाहते हैं कि हमारे युवा एक-दूसरे के देश को जानें, एक-दूसरे के देश को देखें, समझें और काम करें, ताकि हमारे संबंधों के लिए हजारों उच्चायुक्त तैयार हों। इसलिए आज हमने दो महत्वपूर्ण समझौते किये हैं। उन्होंने कहा कि इनमें से एक समझौता है कि एक-दूसरे की शिक्षा योग्यताओं को मान्यता देने का और दूसरा माइग्रेशन और मोबिलिटी साझेदाही को गति देने का।

वहीं साझा प्रेस कॉन्फेंस में फांस के राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा कि दोनों देशों के बीच ऐतिहासिक गठजोड़ है। वहीं आतंकवाद के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि दोनों देश आतंक और उसकी फंडिंग के खिलाफ लड़ेंगे। इससे पहले शनिवार को फ्रांसिसि राष्ट्रपति को राष्ट्रपति भवन में गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

बता दें कि मैक्रों अपनी पत्नी ब्रिगित मैरी क्लाउड के साथ भारत पहुंचे। उनके साथ उनके मंत्रीमंडल के कई वरिष्ठ मंत्री भी भारत पहुंचे। शुक्रवार को मैक्रों के भारत की धरती पर कदम रखने के बाद पीएम मोदी ने खुद एयरपोर्ट जाकर उनका स्वागत किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here