Reading Time: 1 minute

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द युवाओं के आदर्श हैं। स्वामी जी की जयंती के मौके पर युवाओं को समाज के लिए काम करने का संकल्प लेना चाहिए। वह शुक्रवार को अमीनाबाद स्थित झण्डेवाला पार्क में स्वामी विवेकानन्द जयंती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इससे पूर्व राज्यपाल ने स्वामी विवेकानन्द और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी गुलाब सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

राज्यपाल ने कहा कि स्वामी जी का मानना था कि अयं निजः परोवेति गणना लघुचेतसाम अर्थात यह मेरा यह तेरा है, यह क्षुद्र मानसिकता वाले करते हैं। राम नाईक ने कहा कि पर्यावरण की दृष्टि से लखनऊ से नीचे की तरफ से बहुत नीचे स्थान है। लखनऊ के पार्कों में पेड़ पौधे हों यह नगर निगम की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि सरकार में लखनऊ से कई मंत्री हैं। इसलिए लखनऊ के मंत्री अपनी शपथ को याद करें और लखनऊ में क्या-क्या समस्यायें हैं। इसके निराकरण के लिए काम करें। राज्यपाल ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने बहुत ही कम समय में असाधारण काम किया। सबको साथ लेकर सबके लिए काम करने का संकल्प लेना चाहिए।

कार्यक्रम में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द ने हिन्दुत्व का डंका पूरे विश्व में बजाया था। शिकागो की धर्म संसद में जाकर स्वामी जी ने हिन्दुत्व का दर्शन पूरे विश्व को कराया था। विन्ध्यवासिनी कुमार ने राज्यपाल से लखनऊ में स्वामी विवेकानन्द शोध पीठ की स्थापना करने की मांग की। इसके अलावा झण्डेवाला पार्क में स्वामी विवेकानन्द व गणेश लोधी द्वार बनवाने की मांग की गयी। इस मौके पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टण्डन, कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक, महापौर संयुक्ता भाटिया, पूर्व विधान परिषद सदस्य और कार्यक्रम के संयोजक विन्ध्यवासिनी कुमार और लोकभारती के राष्ट्रीय सचिव बृजेन्द्र पाल सिंह उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here