विजय त्रिपाठी, लखनऊ। यूपी पुलिस ने जनता की बढ़ती हुई समस्याओं के निस्तारण के लिए एक नयी पहल की शुरुआत की है। उत्तर प्रदेश के डीजीपी सुलखान सिंह ने प्रदेशवासियों से गुरुवार की शाम सीधा संवाद किया। यह संवाद ट्विटर के जरिये हुआ। पहली बार यूपी के डीजीपी सुलखान सिंह ने जनता से ट्विटर के माध्यम से सीधे सवाल पूछ कर बातचीत की। शाम 5.30 बजे से 6.30 बजे तक लगभग एक घंटे डीजीपी सुलखान सिंह ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिए लोगों से सीधे जुड़कर जनता की समस्याएं सुनी और उनका समाधान की बात की।

जिस तेजी से सोशल मीडिया का विस्तार हुआ है और आगे भी इसका विस्तार होगा। उससे प्रदेश पुलिस ने भी खुद को इस मंच पर सक्रिय कर लिया। ट्विटर हैंडल यूपी पुलिस पर राज्य पुलिस के 2 लाख 76 हजार से अधिक फॉलोअर हैं। राज्य पुलिस की ट्विटर सेवा पिछले साल सितंबर में शुरू की गई थी। किसी हालात में पीड़ित पुलिस तक पहुंच नहीं सकता है तो वह डीजीपी के ट्विटर अकाउंट पर जाकर अपनी बात रख सकता है और उसको जरुरी पुलिसिया मदद भी मिलेगी।

इस मौके पर ट्विटर के जरिये जनता से सीधा संवाद बनाने के लिए डीजीपी का कार्यक्रम का समय एक घटना निर्धारित था लेकिन लोगों के सवाल-जवाब में एक घंटे से भी ज्यादा समय तक डीजीपी सबकी बातें सुनते रहे और कई में जरुरी निर्देश भी दिए। भविष्य में पुलिस और आम जनता के लिए यह सेवा मील का पत्थर साबित होगी। जनपद के पुलिस अधिकारियों को भी ट्विटर के जरिये लोगों से संवाद करने की बात उनके द्वारा कही गई। डीजीपी ने कहा ये मंच उन लोगों के लिए बेहतर विकल्प साबित होगा जो प्रदेश के बाहर रहते है और किसी न किसी कारण से पुलिस तक नहीं पहुंच सकते है।

यूपी पुलिस को ट्विटर में बेहतर सेवा के लिए सम्मानित भी किया गया है। यूपी के डीजीपी सुलखान सिंह ने बताया कि पहली बार फरियादियों से सीधा ई- संवाद की शुरुआत की है। इसके आधार पर हम अपनी कार्यप्रणाली को सुधारने का प्रयास करेंगे। ज्यादातर मामले ट्रैफिक शिकायत, डोमेस्टिक मामले और पुलिस के व्यवहार जैसे मामले सामने आये हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here