लखनऊ। चार दिसम्बर के बाद लखनऊ से जुड़ा एक और महत्वपूर्ण रेल नेटवर्क तेज रफ्तार सफर के लिए तैयार हो जाएगा। हालाँकि इसका लाभ यात्रियों को एक साल बाद ही मिल सकेगा। दरअसल लखनऊ के उतरेटिया से वाराणसी तक 280 किलोमीटर लंबे रेलखंड के दोहरीकरण का काम अंतिम चरण में पहुंच गया है। 280 किलोमीटर लंबे रेलखंड पर 238 किलोमीटर रूट पहले ही डबल हो चुका है।

सीनियर ​डीसीएम ने बुधवार को बताया कि उतरेटिया से वाराणसी तक 280 किलोमीटर लंबे रेलखंड के दोहरीकरण का काम अंतिम चरण में पहुंच गया है। 280 किलोमीटर लंबे रेलखंड पर 238 किलोमीटर रूट पहले ही डबल हो चुका है। शेष 42 किलोमीटर रेलखंड में से हैदरगढ़-चौबीसी-अकबरगंज तक 15 किलोमीटर रूट के दोहरीकरण के लिए नॉन इंटरलॉकिंग का कार्य चल रहा है। यह कार्य भी चार दिसम्बर तक पूरा हो जाएगा।

बता दें कि लखनऊ से वाराणसी के लिए तीन रेलखंड हैं। इसमें मेन लाइन वाया प्रतापगढ़ है, जबकि राजधानी एक्सप्रेस का रूट सुल्तानपुर के रास्ते हैं। इसी तरह लखनऊ-वाराणसी का तीसरा रेलखंड बाराबंकी-फैजाबाद होकर गुजरता है। उतरेटिया से रायबरेली के बीच रेल दोहरीकरण अभी चल रहा है।

लोकसभा सांसद और भाजपा की राष्ट्रीय प्रवक्ता माननीय मीनाक्षी लेखी ने नई दिल्ली में किया वेंविक जीएसटी सुविधा केंद्र का उदघाटन