प्रतीकात्मक तस्वीर
Reading Time: 1 minute

लखनऊ। उत्तर रेलवे में 01 अप्रैल 2010 से अब तक कुल 114 ट्रेन दुर्घटनाएं हुई हैं, जिसमें 226 लोग की मृत्यु हुई और 365 व्यक्ति घायल हुए। जिसमें 110 मामलों की जांच पूरी हो चुकी है और 04 मामलों में जांच हो रही है।  इन ट्रेन दुर्घटनाओं में रेलवे के कुल 27.2 करोड़ रुपये की क्षति हुई। सबसे अधिक हताहत इसी वर्ष 19 अगस्त को उत्कल एक्सप्रेस के 13 डब्बों के मुजफ्फरनगर जिले के खतौली स्टेशन पर पटरी से उतरने से हुए, जिसमें 25 लोगों की मौत हुई और 105 घायल हुए थे। इस मामले में अभी जांच चल रही है। उत्तर रेलवे मुख्यालय ने आरटीआई एक्टिविस्ट नूतन ठाकुर को सूचना के अधिकार के तहत यह जानकारी दी है।

 इस बाबत नूतन ठाकुर ने बताया कि 20 मार्च 2015 को देहरादून वाराणसी एक्सप्रेस के रायबरेली के बछरावां स्टेशन के पास पटरी से उतरने से 39 लोगों की मौत व 38 लोग घायल हुए थे। इस मामले में तीन रेलवेकर्मियों का पद कम किया गया था। गौरतलब है कि नूतन को दी गयी सूचना के अनुसार इन 110 मामलों में 79 मामलों में कोई रेलकर्मी दुर्घटना के लिए जिम्मेदार नहीं पाया गया, शेष मामलों में 172 रेलकर्मी दण्डित किये गए, जिसमें 24 रेलकर्मी बर्खास्त किये गए और 04 को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी जा चुकी है। वहीं दुर्घटना के विभिन्न कारणों में गैर-जिम्मेदार ड्राइविंग के कारण 66 दुर्घटनाएं घट चुकी है जबकि 01 मामले में हाथी के अचानक आने से घटना घटी।

वायु गुणवत्ता में सुधार होने से भारतीय जी सकते हैं इतना लंबा जीवन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here