राजीव शर्मा, बहराइच। पं0 राधेश्याम पाण्डेय सरस्वती इण्टर कालेज जमोग चर्दा के प्राचार्य बी0एस0 मिश्र ने बहराइच जिले में बोर्ड परीक्षा केन्द्र निर्धारण में हुई धांधली के विरूद्ध मुख्यमंत्री सहित सम्बंधित अधिकारियों को शिकायती पत्र भेजे हैं। जारी किये गए शिकायती पत्र की प्रति उपलब्ध कराते हुए प्राचार्य मिश्र ने कहा कि गत 2010 से लगातार परीक्षा केन्द्र हमारे विद्यालय में बनाया जाता रहा। परन्तु 2018 का बोर्ड परीक्षा केन्द्र हमारे विद्यालय को नहीं बनाया गया। गत वर्षों के परीक्षा केन्द्र की कोई त्रुटि भी नहीं पायी गयी। बावजूद इसके विद्यालय के तथ्यों में जानबूझकर छेड़छाड़ की गयी।

अपने कथन की पुष्टि में प्राचार्य में कई अभिलेख भी प्रार्थना पत्र के साथ संलग्न किए हैं। पत्र में लिखा है कि विद्यालय विकास खण्ड नवाबगंज में स्थित है। जिला विद्यालय निरीक्षक ने अपनी रिपोर्ट में इसे चित्तौरा ब्लाक दिखाया है। यही नहीं विद्यालय तहसील नानपारा में है रिपोर्ट में कैसरगंज दिखाया गया है। नोडल अधिकारी मुक्तेश्वर पोद्दार की रिपोर्ट व जिला विद्यालय निरीक्षक बहराइच की रिपोर्ट में भारी भिन्नता है। नोडल अधिकारी ने विद्यालय में दो कैमरे होना बताया है। जबकि जिला विद्यालय निरीक्षक बहराइच की रिपोर्ट में सभी कमरों में कैमरे होना दर्शाया है।

जिला विद्यालय निरीक्षक ने अपनी रिपोर्ट में शौचालय, वाटर टैंक, हैण्ड पम्प व कम्प्यूटर सिस्टम होना दर्शाया ही नहीं है। जबकि तत्कालीन जिला विद्यालय निरीक्षक ने अपनी रिपोर्ट 02 फरवरी 2016 में शौचालय 14, हैण्डपम्प 03 तथा वाटर टैंकों की टंकी 06 अंकित किए हैं। इस प्रकार मेरे विद्यालयों के तथ्यों में जानबूझकर छेड़छाड़ की गयी। यही नहीं नोडल अधिकारी जिन विद्यालय में सीसीटीवी कैमरे न होना दर्शाया था। उन विद्यालय को भी परीक्षा केन्द्र बना दिया गया। मेरे विद्यालय को केन्द्र न बनाकर विद्यालय की प्रतिष्ठा व गरिमा को ठेस पहुंचायी गयी। इससे सिद्ध है कि जिला विद्यालय निरीक्षक बहराइच कुछ निहित स्वार्थी तत्वों के मकड़जाल में फंसे हैं।

उन्होंने कहा कि यही नहीं पूरे जिला बहराइच में डीआईओएस द्वारा यह खेल किया गया है। इस तथ्य की पूरी जांच कराकर मेरे विद्यालय को परीक्षा केन्द्र बनाया जाया। शिकायती पत्र की प्रतियां उपमुख्यमंत्री उप्र शासन, शिक्षा निदेशक, सचिव माध्यमिक लखनऊ, सचिव माध्यमिक परिषद इलाहाबाद, सचिव क्षेत्रीय कार्यालय माध्यमिक शिक्षा परिषद वाराणसी, उप शिक्षा निदेशक फैजाबाद, डीएम बहराइच व डीआईओएस बहराइच को भी भेजी गयी है। प्राचार्य ने इसके अतिरिक्त मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव व प्रधानमंत्री भारत सरकार के ट्विटर पर भी शिकायती की है।