नई दिल्ली । 26 नवंबर को संविधान दिवस है। 1949 में आज ही के दिन भारत का संविधान स्वीकार किया गया था। भारत का संविधान विधिवत रूप से 26 जनवरी 1950 से लागू हुआ। इसके साथ ही भारत के इतिहास में एक नये युग की शुरूआत हुई। 2015 से मोदी सरकार 26 नवंबर को संविधान दिवस के रूप में मना रही है। संविधान दिवस के अवसर पर पीएम मोदी ने ट्वीट कर संविधान निर्माताओं को याद करते हुए एक वीडियो ट्वीट किया। वहीं राष्ट्रपति ने भी ट्वीट कर संविधान सभा के सदस्यों को याद किया और डॉ. भीमराव अंबेड़कर को श्रद्धांजलि अर्पित की।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट कर कहा कि 26 नवंबर का यह दिन मोदी सरकार ने संविधान के महत्व का प्रचार करने और बाबा साहब अम्बेडकर जी के विचारों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए चुना है। बासाहब जी के योगदान और दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के सर्व-समावेशी संविधान को समर्पित “संविधान दिवस” की समस्त देशवासियों को शुभकामनाएं।’ बता दें कि यूजीसी ने भी सभी विश्वविद्यालयों को संविधान दिवस मनाने का निर्देश जारी किया है। यूजीसी ने उस विभिन्न तरह की गतिविधियों का आयोजन कर मौलिक कर्तव्यों पर व्याख्यान आयोजित करने का निर्देश दिया है।

डिप्टी सीएम ने कहा विपक्ष को ईवीएम से नहीं जनता के इस चीज से है परेशानी