तिरूवनंतपुरम। केरल में कथित लव जिहाद मामले में नआ मोड़ आ गया है। सुप्रीम कोर्ट में पेशी के दौरान अखिला से हदिया बन चुकी महिला ने कहा कि उसने स्वेच्छा से इस्लाम धर्म कबूल किया है। वह अपने पति के पास जाना चाहती है। बता दें कि यह मामला केरल में काफी गर्म है और इसको लेकर राजनीतिक सरगर्मियां तेज हैं। अखिला उर्फ हदिया आर्मी फैमली से ताल्लुक रखती हैं। हदिया को सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के सामने पेश होना है।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने 30 अक्टूबर को हदिया के पिता को अपनी बेटी को अगली सुनवाई के वक्त यानी 27 दिसंबर को पेश होने का कहा था। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट हदिया उर्फ अखिला के पिता की उस याचिका पर सुनवाई कर रही है जिसमें पिता ने आरोप लगाया है कि उसकी बेटी को गुमराह कर जबरन इस्लाम परिवर्तन करने पर मजबूर किया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई में कहा था कि वो आगे की सुनवाई से पहले संबंधित लड़की राय भी जानना चाहती है।

दूसरी ओर हदिया के पति ने आरोप लगाया है कि हदिया के पिता और आरएसएस के लोग मिलकर उसपर हिन्दू धर्म को अपनाने के लिए दवाब डाल रहे हैं। इस सिलसिले में हदिया को हिन्दू धर्मगुरुओं द्वारा तीन घंटे तक काउंसिलिंग की गई। अखिला को अपने कॉलेज के दिनों में अपने मुस्लिम रूम मेट के साथ रहने के दौरान इस्लाम के प्रति आकर्षण बढ़ा था। बाद में वो अपने रूम मेट के पिता से मिली और इस्लाम का कलमा पढ़ इस्लाम कबूल लिया। बाद में दिसंबर 2016 में अखिला की शादी एक मुस्लिम युवक शैफीन जहां से हो गई। शैफीन एक कंपनी में मैनेजर था।

लेकिन जब हदिया 21 दिसंबर 2016 को पति के साथ हाईकोर्ट पहुंची तो हाईकोर्ट ने 24 मई 2017 को उसकी शादी को खारिज कर दिया और हदिया उर्फ अखिला को वापस हॉस्टल भेज दिया। हाईकोर्ट के इस फैसले को उसके पति ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी। बाद में पति की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने एनआईए को इस मामले में जांच के आदेश दिया। अब सुप्रीम कोर्ट में जाने से पहले हदिया उर्फ अखिला ये बयान सामने आया है। सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर सोमवार को फिर से सुनवाई करेगी।