लखनऊ। भारत के सैनिक जांबाजी और बहादुरी में सारे संसार में अव्वल माने जाते हैं। लेकिन हमारे एक सैनिक के खाने पर एक दिन का कुल खर्च बेहद चौंकाने वाला है। आरटीआई के तहत मांगी गई एक जानकारी में खुलासा हुआ है कि अपनी जान हथेली पर लेकर भारत की सीमाओं को सुरक्षित रखने के साथ-साथ भारत को आतंरिक दंगों से सुरक्षित रखने वाले इन सैनिकों की खुराक पर होने वाला खर्च बेहद कम है। राजधानी लखनऊ निवासी संजय शर्मा ने बीते 4 सितम्बर को भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय में एक आरटीआई अर्जी देकर एक सैनिक के राशन के लिए एक दिन की निर्धारित की गई धनराशि की सूचना मांगी थी।

संजय ने जल सेना, थल सेना और वायु सेना के सोल्जर और नॉन सोल्जर की एक दिन की भोजन व्यवस्था पर व्यय की जाने वाली धनराशि की सूचना सोल्जर और नॉन सोल्जर की तैनाती के स्थान की श्रेणीवार भी मांगी थी। इस आरटीआई आवेदन पर भारतीय सेना के जन सूचना अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल एडीएस जसरोटिया ने बीते 13 नवम्बर को संजय को पत्र जारी करके बताया है कि भारतीय सेना के सैनिकों की विभिन्न ऊंचाइयों के स्थानों पर तैनाती के आधार पर होलसेल प्रोक्योरमेंट रेट पर उपलब्ध राशन आइटम की दर पर 9000 फीट से नीचे के स्थानों पर तैनाती की स्थिति में 100 रूपये 40 पैसा प्रतिदिन है।

वहीं 9000 फीट से 11,999 फीट तक की ऊंचाई वाले स्थानों पर 116 रूपया 56 पैसा और 12000 फ़ीट से अधिक ऊंचाई के स्थानों पर तैनाती की स्थिति में 241 रूपया 17 पैसे एक सैनिक के 1 दिन के राशन पर खर्च किए जाते हैं। एयर फोर्स और नेवी की कोई सूचना रक्षा मंत्रालय के एकीकृत मुख्यालय में न होने की बात भी संजय को बताई गई है।

जसरोटिया ने यह भी बताया है कि वर्तमान में सेना की तीनों शाखाओं आर्मी, नेवी और एयरफोर्स के सभी रैंक के अधिकारियों और कर्मचारियों, कार्मिकों तथा इंटर सर्विस आर्गेनाईजेशन के सभी कार्मिकों को 11 अगस्त 2016 को जारी भारत सरकार के आदेश के अनुसार 97 रूपया 85 पैसे प्रतिदिन की दर पर राशन मनी अलाउंस दिया जाता है। पीस एरियाज में तैनात किए गए डिफेंस फोर्स के अधिकारियों के राशन मनी अलाउंस को 7 वें वेतन आयोग के मद्देनजर रिव्यू किए जाने की बात भी जसरोटिया ने सूचना में बताई है।