गाजियाबाद।

1.25 करोड़ की आबादी में 50 लाख लोग अगर आपदा प्रबंधन में परिशिक्षित हो तो कोई भी सरकार देश में आने वाली आपदा से पूर्ण रूप से नहीं निपट सकती।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज गंगाराम अहीर जी ने ग्लोबल इंडियन फाउंडेशन एवं नवीन पथ द्वारा NDRF के सहयोग से आयोजित डिजास्टर मैनेजमेंट प्रशिक्षण सिविर का उद्घाटन करते हुए कहा कि देश में NGO एवं समाज सेवी संघठन लगातार इसी प्रकार से जागरूकता लायेंगे तो निश्चित तौर पर बाढ़, भूकंप, रासायनिक हमले, परमाणु हमले, रेल हादसे, इत्यादि मामले में जानमाल का नुकसान रोका जा सकता है।

हंसराज गंगाराम अहीर ने बाल भवन इंटरनेशनल स्कूल, द्वारका, में बोलते हुए ग्लोबल इंडियन फाउंडेशन एवं नवीन पथ के चेयरमैन नवीन कुमार व उनकी टीम द्वारा De-radicalization और आपदा प्रबंधन पर पूरे देशभर में कराए जा रहे जागरूकता अभियान की प्रशंसा करते हुए इसे देश की ऐसे गैर राजनीतिक कार्यक्रम में बढ़ोतरी होनी चाहिए।

ग्लोबल इंडियन फाउंडेशन एवं नवीन पथ के चेयरमैन नवीन कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के आह्वान के बाद पिछले दो वर्षों से संस्था जम्मू-कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, आदि राज्यों में De-radicalization और आपदा प्रबंधन से लोगों में प्रशिक्षित कर रही है।

हालाँकि भारत में पढ़े-लिखे व समझदार लोगों का आतंकवादी संगठनों में जाने का चलन न के बराबर है। लेकिन हमको आने वाले खतरों से पहले ही प्रशिक्षित होने की आवश्यकता है।

सीमा सुरक्षा बल की महानिदेशक के के शर्मा ने इस अवसर पर कहा कि भारत की सीमाओं और देश में अपराधों से निपटते हुए बल के जवान किस प्रकार सीमाओं की सुरक्षा कर रहे हैं।

उन्होंने एक प्रेजेंटेशन देते हुए दिखाया कि पिछले साल में जम्मू कश्मीर, बिहार आदि राज्यों में BSF ने बाढ़ व अन्य आपदा से किस प्रकार से बखूबी मुकाबला किया है।

NDRF के महानिरीक्षक रवि जोसफ ने आपदा प्रबंधन पर फोर्स द्वारा किये जा रहे कार्यों का विवरण देते हुए जागरूकता अभियान पर व्यापक स्तर पर बल दिया।

वहीं दिल्ली के विशेष पुलिस आयुक्त, पी. कामराज ने दिल्ली वासियों की सुरक्षा के प्रति, दिल्ली पुलिस द्वारा चलाए जा रहे Community Awareness प्रोग्राम के बारे में अवगत कराया।

स्वगाताक्ष S.S.Agarwal, स्कूल प्रिंसिपल कुणाल गुप्ता, टी.पी.सिंह, एस.एल.गुप्ता, किशोर मनिहाल, कमल जैन, नीलकमल गुप्ता सहित अनेक वरिष्ठ लोगों ने अपने विचार रखे।

वाहन चलाते समय इन बातों का ध्यान नहीं तो हर हाल में कटेगा चालान

ब्रह्मोस के बाद भी भारत के पास हैं ये बेहद खतरनाक मिसाइल, दुनिया मानती है लोहा