लखनऊ। एनसीसी की 69वीं वर्षगांठ के अवसर पर 24 नवम्बर को प्रतिभावान कैडेटों को सम्मानित किया जायेगा। इस अवसर पर प्रदेश के अपर महानिदेशक मेजर जनरल आरजीआर तिवारी सिविल एवं सैन्यधिकारियों की उपस्थिति में एनसीसी के प्रतिभावान कैडेटों को सम्मानित करेंगे। उत्तर प्रदेश राज्य के विभिन्न जिलों में स्थापित लगभग 1500 स्कूल एवं कालेजों में एनसीसी के एक लाख उन्नतीस हजार तीन सौ ग्यारह कैडेटों को एकता और अनुशासन की प्रेरणादायी भावना जागृत करते हुए एनसीसी का प्रशिक्षण उपलब्ध करवाया जा रहा है।

एनसीसी प्रशिक्षण के अतिरिक्त कैडेटों को अनेक साहसिक गतिविधियों का भी अभ्यास करवाया जाता है जैसे कि ट्रैकिंग, रॉकक्लाइबिंग, रिवरराफ्टिंग, पर्वतारोहण, पैरासेलिंग, पैराजम्पिग, वाटरराफ्टिंग इत्यादि। एकता एवं अनुशासन के आदर्श के साथ सन् 1948 में एनसीसी का आरम्भ हुआ। ज्ञात हो कि एनसीसी देश के युवाओं के चरित्र निर्माण के विकास कार्य में अहम भूमिका निभाती है। राष्ट्र निर्माण में युवाओं के उज्जवल भविष्य को संवारने के प्रति पूर्णतः कटिबद्ध रही है। इसके अतिरक्त एनसीसी का पूर्ण प्रयास रहा है कि वह देश के नवयुवकों के चरित्र निर्माण, अनुशासन, नेतृत्व की भावना आदि गुणों के विकास कार्य में उत्तरोतर विकास करें।

एनसीसी की कार्यप्रणाली एवं कैडेटों के प्रशिक्षण का उद्देश्य देश के युवाओं में चरित्र साहचर्य, अनुशासन, नेतृत्व, धर्मनिरपेक्षता, रोमांच तथा निःस्वार्थ सेवा भाव का संचार करना है। इसके साथ-साथ संगठित प्रशिक्षित व प्रेरित युवाओं का एक मानव-संसाधन तैयार करना, जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में नेतृत्व प्रदान करना व देश की सेवा के लिए सदैव तत्पर रहना है। सशस्त्र सेना में जीविका करियरबद्ध बनाने के लिए युवाओं को प्रेरित करने हेतु उचित वातावरण प्रदान करना।

एनसीसी प्रशिक्षण को हासिल करने के दौरान कैंडट्स विभिन्न सामाजिक गतिविधियों में भाग लेते हैं । इनमें प्रमुख रूप से प्रौढ़ शिक्षा एड्स जागरूकता अभियान, स्वच्छता अभियान, शौचालय का प्रयोग अभियान, कैंसर के प्रति जारूकता अभियान, पल्स पोलियो कार्यक्रम, वृक्षारोपण एवं रक्तदान हैं।