आलोक द्विवेदी, लखनऊ। समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव का 79वां जन्मदिन पूरी समजवादी पार्टी के लिए बेहद खास रहा क्योंकि समाजवादी पार्टी कुनबे में कलह के चलते पिछला जन्मदिन फीका पड़ गया था। परन्तु आज पुत्र अखिलेश की मौजूदगी में पिता मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन सपा के प्रदेश कार्यालय में धूमधाम से मनाया गया। जिसमें राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ ही तमाम नेता इस मौजूद रहे। हालांकि पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव और रामगोपाल यादव दोनों ही जन्मदिन के इस बेहद खास मौके से नदारत रहे।

जन्मदिन के इस अवसर पर अखिलेश और मुलायम के बीच कुछ तल्खी नजर आई। अखिलेश ने तो केक खाने से भी इनकार कर दिया। बाद में मुलायम ने पार्टी के सीनियर लीडर किरणमय नंदा को बुलाया और उनसे अखिलेश को पकड़ने को कहा। इसके बाद अखिलेश को केक खिलाया गया। बाद में मुलायम ने कहा- हम अखिलेश को आशीर्वाद देते रहेंगे। वो लड़का पहले और नेता बाद में।

अपने बर्थडे पर भी मुलायम सिंह सियासी बयान देने में नहीं चूके। उन्होंने कहा कि बीजेपी झूठ बोल कर सत्ता में आई है। 15 लाख रुपए देने का वादा किया था। एक बार में नहीं दे सकते तो धीरे-धीरे करके दे दो। 5 साल में 3-3 लाख करके दे देते। हमने कहा था कि हम सरकार में आएंगे तो पढ़ाई, दवाई मुफ्त होगी। हमने ऐसा किया भी। पूरे देश में ऐसा कोई प्रदेश नहीं जहां कन्या विद्याधन दिया गया हो और शादी का पैसा सरकार ने दिया हो।

हमारी सरकार के आते ही अखिलेश ने वादा पूरा किया, अब सब उसको फॉलो कर रहे हैं। हमने जो वादे किए थे, अखिलेश यादव ने सब पूरे किए हैं। समाजवादी पार्टी हमारे बनाए रास्ते पर चल रही है। भाषा के नाम पर भेदभाव नहीं करना चाहिए। हिन्दू-मुस्लिम के बीच भेदभाव नहीं करना चाहिए। महिला-पुरुष में भी भेदभाव नहीं करना चाहिए। सबसे ज्यादा अत्याचार महिलाओं पर हो रहा है। 65 फीसदी लोग ऐसे हैं जो पेट भर खाना खा रहे हैं पर 35 फीसदी लोगों को दो वक्त की रोटी नहीं मिल पा रही है।

सालों से नहीं सुधर पा रही आयोग की अजीबोगरीब मतदाता सूची