चंडीगढ़। भारतीय वायु सेना के एकमात्र पांच स्टार प्राप्त करने वाले अधिकारी मार्शल अर्जन सिंह को आज (सोमवार) अंतिम विदाई दी गई। मार्शल अर्जन सिंह को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। उनका अंतिम संस्कार ब्रार स्क्वेयर पर किया गया। इससे पहले उन्हें रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के अलावा लालकृष्ण आडवाणी और तीनों सेनाओं के प्रमुखों के अलावा कई लोगों ने श्रद्धांजलि दी।

अर्जन सिंह के सम्मान में सभी सरकारी इमारतों में राष्ट्रध्वज को आधा झुका दिया गया। मार्शल अर्जन सिंह को अंतिम विदाई देने से पहले उन्हें 21 तोपों की सलामी दी गई। रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने अर्जन सिंह के पार्थिव शरीर पर पुष्पचक्र चढ़ा कर श्रद्धांजलि दी। इस दौरान वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ, नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लाम्बा, थलसेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत और केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी भी मौजूद थे।

इससे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और पीएम मोदी अर्जन सिंह के घर जाकर उनके अंतिम दर्शन किये। उप राष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने अपने शोक संदेश में अर्जन सिंह को भारतीय वायुसेना का ‘आइकन’ बताया और 1965 के भारत-पाक युद्ध के दौरान उनके योगदान का याद किया।

मार्शल अर्जन सिंह का शनिवार को सेना के रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल में निधन हो गया था। वह 98 साल के थे। वह वायुसेना एकमात्र अधिकारी थे जिन्हें फाइव स्टार रैंक दिया गया था।