रूस से पहुँची वैक्सीन : स्पूतनिक-वी की 1.5 लाख डोज पहुंची भारत

नई दिल्ली। देश में कोरोना के खिलाफ युद्ध स्तर पर कार्य जारी है। तीनों सेनाओं के साथ ही सभी मंत्रालय व संस्थाएं अस्पतालों और कोविड मरीजों तक मदद पहुंचाने में लगे हैं। इसी के तहत वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने जानकारी देते हुए कहा कि, देश में स्पूतनिक-वी की डेढ़ लाख डोज भारत पहुंच चुकी है और रूस के प्रत्यक्ष निवेश कोष ने इस वैक्सीन के अधिक उत्पादन के लिए भारत की स्थानीय कंपनियों के साथ समझौता किया है।

17.56 करोड़ वैक्सीन की दी जा चुकी ख़ुराक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के पत्र के जवाब में वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने कोविड महामारी से निपटने के लिए केंद्र के उपायों का विस्तृत ब्यौरा दिया है। इसमें उन्होंने बताया कि, अब तक सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को सभी उम्र के लोगों के वैक्सीनेशन के लिए 17.56 करोड़ वैक्सीन की खुराक दी है और अगले तीन दिन में उन्हें 46 लाख खुराकों की और आपूर्ति की जाएगी। इसके साथ ही बताया कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदशों के पास 72 लाख वैक्सीन डोज उपलब्ध हैं।

4200 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति

रेलवे के बारे में उन्होंने कहा कि भारतीय रेलवे ने देश के विभिन्न राज्यों में 268 टैंकरों के माध्यम से 4 हजार 200 मीट्रिक टन तरल मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति की है। इसके लिए 68 ऑक्सीजन एक्सप्रेस रेलगाड़ियां पहले ही चलाई जा चुकी हैं।

सैनिक अस्पतालों में करीब 700 बिस्तर

विभिन्न सैनिक अस्पतालों में करीब 700 बिस्तर गैर सैन्य कर्मियों के उपयोग के लिए अलग रखे गए हैं। इसके अलावा डीआरडीओ ने नई दिल्ली और लखनऊ में 500 बेड का कोविड हॉस्पिटल, अहमदाबाद में 900 बिस्तरों वाला अस्पताल और पटना में ईएसआईसी अस्पताल को 500 बिस्तरों के साथ कोविड अस्पताल में अस्पताल या बेड स्थापित किया है।

वायु सेना ने पहुंचाए 61 ऑक्सीजन कंटेनर

भारतीय वायु सेना के परिवहन विमानों ने 50 उड़ानों के माध्यम से विदेशों से 1,142 मीट्रिक टन क्षमता के 61 ऑक्सीजन कंटेनर पहुंचाए। नौसेना के कोलकाता, कोच्चि, तबार, त्रिकांड, जलाश्व और एरावत जहाजों को पश्चिम एशिया और दक्षिण पूर्व एशिया के विभिन्न देशों से तरल मेडिकल ऑक्सीजन से भरे क्रायोजेनिक कंटेनर और चिकित्सा उपकरण लाने के लिए तैनात किया गया।

अब मनरेगा पारिश्रमिक 182 से बढ़कर 202 रुपये

वित्त राज्य मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने पिछले वर्ष कोविड अवधि के दौरान 61 हजार 500 करोड़ रुपये की राशि आवंटित की थी, जिसे दोगुना कर एक लाख करोड़ रुपये से अधिक कर दिया गया है। इसके अलावा मनरेगा पारिश्रमिक 182 रुपये से बढ़ाकर 202 रुपये कर दिया गया और 300 करोड़ मानव दिवस कार्य सृजित किया गया।

Leave a Reply