नये 8 मेहमानों के स्वागत के लिए तैयार है भारत, केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री ने सुविधाओं की ली जांच

देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन यानी की 17 सितम्बर को देश में नये 8 मेहमानों को नामीबिया से भारत लाया जा रहा हैं। नए मेहमान नामीबिया के 8 चीते हैं जिन्हें 16 सिंतबर को एक स्पेशल कार्गो फ्लाइट से नामीबिया से लेकर निकलेंगे, जोकि 17 सितम्बर को जयपुर पहुंचेगे। यंहा से फिर उसी दिन मध्यप्रदेश के श्योपुर स्थित क्रूनो नेशनल पार्क में चीतों को लाया जाएगा। इन चीतों को किसी भी तरह की परेशानी ना हो इसके लिए पीएम मोदी ने भारत के खास मेहमानों को लाने के लिए स्पेशल प्लेन को भेजा है। जहां चीतों को लाने के लिए भारत की एक टीम नामीबिया के लिए रवाना हो चुकी हैं।
आपको बता दें की 8 नए मेहमानों में 5 मादा चीता है और 3 नर चीता शामिल हैं। भारत में आने के बाद इन चीतों को 30 दिन के लिए क्वारंटीन किया जाएगा। ताकि उनकी सेहत में हो रहे किसी भी बदलाव को देखा जा सकें और भारत के वातावरण में वो अपने आप को किसी तरह ढाल रहे है ये भी देखा जा सकें। क्वारंटीन का समय पूरा होने के बाद इन चीतों को पहले लगभग एक किलोमीटर के बाड़े में छोड़ा जाएगा। फिर डेढ़ महीना पूरा होने के बाद इन्हें क्रूनो नेशनल पार्क में खुला छोड़ दिया जाएगा। इन चीतो को किसी भी तरह के इंफेशन ना हो उसके लिए आस पास के गांव के कुत्तों को वैक्सीनेट किया गया है ताकि चीतो को किसी भी तरह परेशानी ना हो साथ ही क्रूनो नेशनल पार्क के आस पास के लगभग 25 गांव को खाली कराकर दूसरी जगह पर गांव वालों का पुर्नवास कराया गया हैं। चीतो को भेजने वाले देश नामीबिया की वन्य जगंल की एक टीम ने भारत आकर मध्यप्रदेश के क्रूनो पार्क का जायजा लेने के बाद ही उन्होंने भारत में चीतो को भेजने का फैसला किया।
वहीं केन्द्रीय पर्यावरण, वन व जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव का कहना होगा कि नामीबिया के अलावा दक्षिण अफ्रीका के साथ भी चीतों को लेकर जल्द समझौता होने वाला है। अगले पांच साल तक प्रोजेक्ट चीता के तहत चीतों का आगमन भारत में जारी रहेगा। इस पंच वर्षीय योजना के लिए 91 करोड़ का बजट रख गया है, जिसमें इंडियन ऑयल आर्थिक सहयोग दे रहा है।

Report by Priyanka