जन्मदिन की हार्दिक बधाई RUDRAPRAYAG : 25साल का हुआ हमारा रूद्रप्रयाग, कितना कुछ बदला, देखें देवभूमि रुद्रप्रयाग पर Special report…

16 सितंबर 1997 में उत्तराखंड का रुद्रप्रयाग जिला अविभाजित उत्तर प्रदेश के समय चमोली, टिहरी और पौड़ी जिले के भागों को सम्मलित कर अस्तित्व में आया था। आपको बता दें की रुद्रप्रयाग जिला मुख्यालय अलकनन्दा और मंदाकिनी, दो नदियों के संगम पर स्थित और पंच प्रयागों में से एक है। जिसे प्राकृतिक सौन्दर्य उपहार के रुप में मिला हुआ है, जो जलवायु क्षेत्र की ऊंचाई पर निर्भर करता है। वहीं केदारनाथ मंदिर ने रुद्रप्रयाग को दुनियाभर में एक खास पहचान दिलाई है। जोकी एक प्राचीन हिंदू मंदिर है जिसका पांडवों द्वारा निर्माण किया गया और आदि मंदिर को शंकराचार्य द्वारा पुनर्जीवित किया गया।

केदारधाम के साथ-साथ 200 से अधिक है शिव मंदिर

रुद्रप्रयाग जिला अक्षांश 30°उत्तर और देशांतर में 78°पूर्व में है और रुद्रप्रयाग में ही केदारनाथ मंदिर उत्तर में स्थित है, जबकि पूर्व में मदमहेश्वर, दक्षिणी पूर्व में नगरासू और ठीक दक्षिण में श्रीनगर है। आपको बता दें की केदारनाथ से उत्पन्न पवित्र मंदाकिनी नदी जिले की मुख्य नदी है। तो वहीं रुद्रप्रयाग जिले का क्षेत्रफल 1984 वर्ग मीटर है, जहां जिले में 4 तहसीलें और 3 विकासखंड हैं। जबकि जिले की जनसंख्या 2 लाख 42 हजार है। आपको बता दें कि उत्तराखंड के चार धामों में एक धाम केदारनाथ धाम सहित यहां 200 से अधिक शिव मंदिर हैं।

कैसे बनाया गया रुद्रप्रयाग जिला
गौरतलब हो की रुद्रप्रयाग जिले के गठन के लिए चमोली जिले के अगस्तमुनी और उखीमठ ब्लॉक को पूर्ण रूप से तो पोखरी और कर्णप्रयाग ब्लॉक का कुछ हिस्सा लिया गया था। तो वहीं टिहरी जिले का जखोली और कीर्तीनगर ब्लॉक का हिस्सा और पौड़ी जिले का खिरसू ब्लॉक का हिस्सा इसमें सम्मलित किया गया था।

तो ऐसे पढ़ा रुद्रप्रयाग का नाम
अगर बात करें हिन्दू शास्त्रों की तो उनके अनुसार नारद को ब्रह्मा के मानस पुत्रों में से एक माना गया है। अर्थात नारद मुनि का जन्म सृष्टि के रचयिता ब्रह्मा जी की जांघ से हुआ। जहां पौराणिक युग में नारद जी पत्रकारिता का काम करते थे। वहीं केदारखण्ड में वर्णित कथा के अनुसार नारद मुनि ने रुद्रप्रयाग में एक टांग पर खड़े होकर कड़ी तपस्या की थी, जिससे प्रसन्न होकर भगवान शिव ने नारदजी को “रुद्र” रूप में दर्शन दिए और उनकी तपस्या से खुश होकर उन्हें वीणा दी और जिस स्थान पर भगवान शिव ने रूद्र रूप में दर्शन दिए थे। उसी स्थान पर एक रुद्रनाथ मंदिर बनाया गया और बाद में इसी स्थान को “रुद्रप्रयाग” के नाम से जाना जाने लगा है। दरअसल पुराणों में रुद्रप्रयाग को ‘पुनाड़’ कहा गया है जबकि महाभारत काल में रुद्रप्रयाग को “रूद्रावर्त” कहा जाता था।

टिहरी, पौड़ी और चमोली जिलों को काटकर बनाया गया अलग जिला
वहीं ऐतिहासिक तथ्यों के अनुसार परमार शासकों से पहले नागवंश के शासक इस क्षेत्र में राज्य करते थे। जहां बाद में छठी शताब्दी के बाद परमार शासकों ने अपना शासन स्थापित किया। वहीं वर्ष 1804 में यह क्षेत्र गोरखा और 1815 में अंग्रेजों के अधीन रहा। जहां अंग्रेजों के सहयोग से सुदर्शन शाह ने गढ़वाल को गोरखा सैनिकों से आजाद करवाया और बदले में अंग्रेजों को गढ़वाल का कुछ क्षेत्र देना पड़ा। जहां बाद में 4 मार्च वर्ष 1820 में सुदर्शन शाह और ब्रिटिश सरकार के मध्य एक संधि हुई। जिसके अनुसार ब्रिटिश सरकार टिहरी गढ़वाल पर राजा सुदर्शन और उनके वंशजों का अधिकार स्वीकार किया। जिसके बाद रूद्रप्रयाग का अधिकांश क्षेत्र टिहरी गढ़वाल के अधीन था। जहां भारत की आजादी के बाद टिहरी, पौड़ी और चमोली जिलों को काटकर रुद्रप्रयाग जनपद का 16 सितंबर वर्ष 1997 में गठन किया गया‌।

Report By Amit negi