चीन से तनातनी के बीच अमेरिका ने ताइवान को दिया मदद का भरोसा, व्यापार को लेकर उठाए कदम

अमेरिकी सरकार ताइवान के साथ व्यापार समझौता करने पर विचार कर रही है। ताइवान को लेकर अमेरिका और चीन के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। ताइवान खुद को स्वतंत्र मानता है जबकि चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी इसे अपने देश का हिस्सा मानती आयी है।

अमेरिका ने ताइवान की मदद करने के लिए बड़ा कदम उठाया है। अमेरिकी सरकार ताइवान के साथ व्यापार समझौता करने पर विचार कर रही है। बता दें कि ताइवान को लेकर अमेरिका और चीन के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। क्योंकि ताइवान खुद को स्वतंत्र मानता है, जबकि चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी इसे अपने देश का हिस्सा मानती आयी है। ताइवान को लेकर बीजिंग द्वारा सैन्य अभ्यास किए जाने के बाद गुरुवार को यह घोषणा की गयी। गौरतलब है कि अमेरिकी संसद की हाउस स्पीकर नैंसी पेलोसी ने इस महीने ताइवान की यात्रा की थी। जिसके बाद चीन ने ताइवान को धमकाने के लिए समुद्र में मिसाइल फायरिंग समेत सैन्य अभ्यास किया था। अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि कार्यालय ने बताया कि बीजिंग के साथ कोई तनाव की स्थिति नहीं है। हालांकि औपचारिक वार्ता व्यापार और नियामक सहयोग को बढ़ाने को लेकर थी, जिस पर अब आधिकारिक बातचीत होगी। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के हिंद प्रशांत क्षेत्र के संयोजक कुर्त कैंपबेल ने पिछले सप्ताह बताया था कि ताइवान के साथ व्यापार को लेकर बातचीन हमारे संबंधों को गहरा करने के प्रयासों का हिस्सा होगा। उन्होंने कहा कि अमेरिका अपनी नीति नहीं बदल रहा है। बता दें कि 1949 में हुए गृहयुद्ध के बाद ताइवान और चीन अलग हो गए थे। ताइवान कभी भी चीन का हिस्सा नहीं रहा है, जबकि चीन इसे अपना हिस्सा मानता है। अमेरिका का ताइवान के साथ कोई आधिकारिक संबंध नहीं है, लेकिन अमेरिका अपने अनौपचारिक दूतावास के माध्यम से ताइवान के साथ गहरा संबंध रखता है।