क्यों कल्याणकारी है स्वास्तिक, क्या मांगलिक कार्यों में स्वास्तिक का विशेष महत्व?