ऑपरेशन व्हाइट पाउडर से कसा स्मैक तस्करों पर शिकंजा: वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक

अमर भारती संवाददाता
सहारनपुर । जिले में लगातार बढ़ रही मादक पदार्थों की तस्करी पर शिकंजा कसने के लिए पुलिस ने ठोस कदम उठाए थे। अब पुलिस ऑप्रेशन व्हाइट पाउडर चलाकर स्मैक व अन्य मादक पदार्थ तस्करी करने वालों पर शिकंजा कसेगी। साथ ही स्मैक तस्करी को रोकने में नाकाम पुलिसकर्मियों पर भी सख्त कार्रवाई की जाएगी।
वेस्ट यूपी में सहारनपुर स्मैक तस्करी का हब बनकर उभरा है। बरेली के बाद सहारनपुर में ही सबसे अधिक स्मैक की तस्करी होती है। यमुना बैल्ट के थानों गंगोह, नकुड, सरसावा, चिलकाना, मिर्जापुर, बेहट से लेकर बिहारीगढ़ से फतेहपुर में स्मैक की तस्करी सबसे अधिक हो रही है। इसके शहर ही शहर और उससे सटे इलाकों में भी स्मैक तकी तस्करी होती है। सदर बाजार के नवादा रोड, कुतुबशेर के मानकऊ, कमेला कालोनी, थाना मंडी क्षेत्र के खाताखेड़ी, पीर वाली गली, कमेला कालोनी, धोबीघाट और सरदार कालोनी, थाना जनकपुरी में शांतीनगर, खानआलमपुरा, शहर कोतवाली में शमादार, नुमाइशकैंप, देहात कोतवाली के क्षेत्र के रसूलपुर और शहर से बाहर वाले इलाकों में स्मैक की तस्करी होती है। सूत्रों की माने तो यहां पर पुलिस को तस्करों की पूरी जानकारी है। लेकिन, पुलिस कार्रवाई से बचती है।
यहां दर्ज कराए शिकायत एसएसपी ने बताया कि तस्करी के मामले में उदासीनता और संलिप्ता पाए जाने पर पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई होगी। इसके लिए एसएसपी ने एक मोबाइल नंबर 7839857851 पर कॉल कर तस्करों की सूचना दे सकते हैं। सूचना देने वाले का नाम और नंबर पूरी तरह से गोपनीय रखा जाएगा।
11 माह में एक हजार से अधिक मुकदमे हुए दर्ज
सहारनपुर में जनवरी 2022 से अब तक मादक मदार्थों की तस्करी करने वालों पर 1013 से अधिक मुकदमें दर्ज किए गए हैं। पुलिस अब तक 843 तस्करों को गिरफ्तार भी कर चुकी है। जिनके कब्जे से 10 करोड़ से अधिक की स्मैक भी बरामद की जा चुकी है। मादक पदार्थों की तस्करी को रोकने के लिए ऑप्रेशन व्हाइट पाउडर चलाया गया है। जिसमें स्मैक तस्करी करने वालों पर पूरी तरह से शिकंजा कसा जाएगा। साथ ही तस्करी रोकने में नाकाम पुलिसकर्मियों पर भी कार्रवाई होगी।